06/11/2013   अमेरिका ने भी सराहा भारत का 'मंगलयान'
नई दिल्ली। मंगल ग्रह पर भारत का मिशन मंगल सफलतापूर्वक शुरू हो गया है। करीब 10 महीने बाद भारत का ये बेहद खास मिशन मंगल ग्रह पर पहुंचकर वहां जीवन की तलाश करेगा। मंगल मिशन की सफल शुरुआत पर इसरो को पूरे देश के साथ-साथ राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और तमाम दलों ने बधाई दी है। मंगल ग्रह के रहस्य सुलझाने के लिए भारत की ओर से उपग्रह के सफल प्रक्षेपण की अमेरिका के मुख्यधारा के मीडिया में व्यापक चर्चा हुई है।

दरअसल दोपहर 2 बजकर 38 मिनट पर जैसे ही काउंटडाउन खत्म हुआ तो पीछे आग छोड़ता पीएसएलवी रॉकेट भारत के मार्स ऑर्बिटर मिशन पर असीम अंतरिक्ष के लंबे सफर पर चल पड़ा। एक ऐसी मंगल यात्रा पर जो अगर कामयाब हो गई तो लाल ग्रह के रहस्यों से पर्दा उठ सकेगा और अंतरिक्ष में छुपे तमाम संसाधनों के लिए मची होड़ में भारत अहम शक्ति साबित होगा। शुरुआती 5 मिनट ना सिर्फ इसरो स्पेस सेंटर में बरसों से काम कर रहे तमाम वैज्ञानिकों के लिए तनाव भरे थे, बल्कि पूरा देश इस ऐतिहासिक लम्हे के हर पल पर नजर रखे हुए था। 2 बजकर 47 मिनट पर इसरो से खबर आई कि सारे सिस्टम ठीक काम कर रहे हैं। रॉकेट सही दिशा में है। और फिर अपने तय समय 3 बजकर 20 मिनट पर मंगलयान पृथ्वी की कक्षा में स्थापित हो गया। खुद इसरो के मुखिया सामने आए और उन्होंने ये खुशखबरी देश और दुनिया को दी।
दरअसल सतीश धवन स्पेस सेंटर से उड़ान भरने के करीब 40 मिनट बाद बारी बारी से इस रॉकेट के चारों चरण अलग हो गए। अंतरिक्ष में पहुंचते ही अंतिम चरण दो हिस्सों में बंट गया और नैनो कार इतना बड़ा मंगलयान बाहर निकल गया। इसके बाद 6 बार मंगलयान के रॉकेट दाग कर उसे पृथ्वी की विशेष कक्षा में लाया गया। अब 20-25 दिन मंगलयान धरती के चक्कर काटेगा और धीरे-धीरे पृथ्वी से दूर होता जाएगा और फिर अचानक पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण से आजाद होकर गुलेल से छूटे पत्थर की तरह डीप स्पेस की ओर तेज रफ्तार से बढ़ जाएगा। इसी वक्त उसे मंगल ग्रह की ओर मोड़ दिया जाएगा। इसके बाद वो कम से कम 25 करोड़ किलोमीटर तय करेगा।
अंतरिक्ष में क्या करेगा काम 
मंगलयान को पिछले महीने 19 अक्टूबर को ही छोड़े जाने की योजना थी, लेकिन दक्षिण प्रशांत महासागर क्षेत्र में मौसम खराब होने के कारण इसे टाल दिया गया था। मंगल की अपनी असली यात्रा मंगल यान एक दिसंबर को शुरू करेगा और अगले साल 24 सितंबर तक मंगल की कक्षा में पहुंचकर वहां से डाटा भेजना शुरू करेगा। मगर इस राह में चुनौतियां हजार हैं क्योंकि साल 1960 से अब तक 45 मंगल अभियान शुरू किए जा चुके हैं जिनमें से एक तिहाई नाकाम रहे हैं। और तो और अब तक कोई भी देश अपने पहले प्रयास में सफल नहीं हुआ है। फिर वो चाहे अंतरिक्ष में मानवयुक्त यान भेजने वाला चीन हो या फिर जापान। भारत से उम्मीदें बहुत हैं क्योंकि चंद्रयान और कई सैटेलाइट्स की कामयाबी से दुनिया की नजर भारत की ओर है। अगर भारत को कामयाबी मिलती है तो वो अमेरिका, रूस और यूरोपियन यूनियन के बाद चौथा ऐसा देश होगा। फिलहाल अमेरिका का क्यूरोसिटी मंगल की जमीन पर काम कर रहा है और वहां से तमाम जानकारियां भेज रहा है। क्यूरोसिटी से मिली तस्वीरों से ये तो साफ है कि मंगल के दो ध्रुवों में बर्फ के रूप में पानी है लेकिन मंगल पर मीथेन गैस या फिर यूं कहें कि जीवन के सबूत खोजने का ये मिशन भारत के लिए ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया के लिए अहम है। मंगलयान को सफलतापूर्वक लॉन्च कर और उसे पृथ्वी की कक्षा में कामयाबी से स्थापित कर इसरो ने पहली जंग जीत ली है। प्रधानमंत्री, राष्ट्रपति, नेता विपक्ष और बीजेपी के पीएम पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी समेत पूरे देश ने इस कामयाबी पर वैज्ञानिकों को बधाई दी है। इंसान के मंगलकारी भविष्य के लिए 25 करोड़ किलोमीटर लांघने निकल चुका है हिंदुस्तान का मंगलयान। उसे जाना है अंतरिक्ष में पृथ्वी के पड़ोस तक, यानि मंगल या मार्स तक, वो ग्रह जिसका नाम ग्रीक युद्ध के देवता के नाम पर पड़ा। 
30 हजार करोड़ किमी तय करेगा सफर 
अंतरिक्ष के बेहद मुश्किल, पेचीदा और खतरनाक सफर को तय करेगा। 25 करोड़ से 40 करोड़ किलोमीटर तक का सफर तय कर वो मंगल को करीब से देखेगा। वहां के वातावरण का हाल जानेगा। जीवन तलाशेगा, जीवन के अवशेष ढूंढेगा। और इस मुश्किल काम को अंजाम देगा, ये छोटा भीम, जी हां, टाटा नैनो के आकार और 1350 किलोग्राम व्रुानी इस मंगलयान को कुछ वैज्ञानिक इसी नाम से बुलाते हैं। ये मंगलयान मंगल के चक्कर काटेगा। लेकिन मंगलयान के लिए अंतरिक्ष में 25 करोड़ किलोमीटर का सफर आसान नहीं। इस दौरान मंगलयान को सौर विकिरण का खतरा होगा। इसे बेहद कम और बेहद ज्यादा तापमान से गुजरते हुए अपने उपकरणों को बचाना होगा। इतना ही नहीं डीप स्पेस में जरा सी चूक अंतकाल तक के लिए किसी भी यान को भटका सकती है। इससे बचने के उपाय भी भारत के काबिल वैज्ञानिकों ने किए हैं। जबरदस्त सर्दी, गर्मी और डीप स्पेस में सौर विकिरण से मंगलयान को बचाने के लिए उसे खास सुनहरे रंग के कवर से लपेटा गया है। चंद्रयान में सेंसर की खराबी से सबक लेते हुए इसमें दो स्टार सेंसर लगाए गए हैं, इससे ये राह नहीं भटकेगा।
क्या-क्या लगा है मंगलयान
मंगलयान में अपना 800 किलोग्राम ईंधन है। 25 करोड़ किलोमीटर के लंबे सफर के दौरान ईंधन बचाना और मंगल के पास पहुंचने पर करीब 9 महीने से सोए पड़े उसके मुख्य इंजन को दोबारा चलाना इसरो के लिए सबसे बड़ी चुनौती होगी। इसके लिए मंगलयान में 2 विशेष कंप्यूटर लगाए गए हैं। ये कंप्यूटर दिक्कत होने पर खुद-ब-खुद फैसला लेने औऱ मंगलयान का रास्ता दुरुस्त करने में सक्षम है। 30 नवंबर को पृथ्वी की कक्षा से निकलकर करीब 9 महीने का सफर तय करने के बाद मंगलयान 24 सितंबर 2014 को मंगल ग्रह की कक्षा तक पहुंच जाएगा। उसके बाद रॉकेट फायर कर उसे मंगल की उस अंडाकार कक्षा की ओर लाया जाएगा, जहां मार्स की धरती से उसका कम से कम फासला रहेगा। कम से कम दूरी होगी 365 किलोमीटर और अधिक से अधिक 80 हजार किलोमीटर। और फिर वो अगले 6 महीने तक इस अबूझे ग्रह के रहस्य सुलझाने की कोशिश करेगा। इसमें भारत में ही बनाए गए पांच विशेष उपकरण हैं। जो मंगल की सतह पर उतरे बिना ही जीवन के संकेत तलाशेंगे। पहली बार कोई मार्स मिशन ऐसा उपकरण लेकर जा रहा है जो मंगल के वातावरण और सतह में मीथेन की मौजूदगी का पता लगा लेगा। मीथेन यानि जीवन की निशानी। इसके अलावा मंगलयान पर 360 डिग्री की तस्वीरें खींचने वाले विशेष कैमरे लगे हैं। इसमें थर्मल सेंसर भी लगे हैं जो मंगल में मौसम के बेहद तेज बदलाव की वजह तलाशने में मदद करेंगे। मंगल पर पानी की तलाश के लिए भी खास उपकरण लगे हैं।


Back

भ्रष्टाचार मैं लिप्त कई यातायात पुलिस कर्मियों के खिलाफ मुकदमे दर्ज़
 

नई दिल्ली : ! दिल्ली पुलिस के बिजिलेंस विभाग ने रिश्वत लेने के आरोप में कई यातायात पुलिस कर्मियों के खिलाफ मुक़दमे दर्ज किया है । यातायात प&#


दिल्ली यातायात पुलिस पूर्ण रूप से भ्रष्टाचार में लिप्त
 

उ.पू. दिल्लीः- देश की राजधनी दिल्ली में भ्रष्टाचार इस प्रकार व्याप्त है कि इस भ्रष्टाचार को दिल्ली सरकार व केंद्र सरकार भी खत्म करने की का&


डी.डी.ए. भूमि आवंटन विभाग भ्रष्टाचार का केंद्र।
 

दिल्लीः- दिल्ली विकास प्राधिकरण भूमि आवंटन विभाग भ्रष्टाचार का केंद्र बन चुका है भूमि आवंटन विभाग में कार्यरत सभी छोटे बड़े अधिकारी पू


यह है जिला गाजियाबाद यहां चलती है सभी की हमारे बाद- यातायात पुलिस
 

जिले में यातायात पुलिस की दबंगई अपने चरम पर जिला गाजियाबादः- जिले में लगभग सभी क्षेत्रों में तैनात यातायात पुलिस के अध्किारी भ्रष्टाच


भाजपा लोजपा गठबंधन

नई दिल्ली। भाजपा-लोजपा गठबंधन में अभी भी पेंच फंसा हुआ है। लोजपा संसदीय दल की बैठक होने वाली थी और उम्मीद थी कि दोपहर बाद गठबंधन पर फैसला क&


यूपीए कार्यकाल में किसान हुआ खुशहाल: तंवर

चंडीगढ़। हरियाणा कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष एवं सांसद डा. अशोक तंवर ने कहा है कि यूपीए सरकार के पिछले दस वर्ष के कार्यकाल में देश व प्रदे


सभी ब्लाॅकों से वीडियो कांफ्रेसिंग की सुविधा उपलब्ध

देहरादून:आने वाले जून तक राज्य के सभी ब्लाॅकों से वीडियो कांफ्रेसिंग की सुविधा उपलब्ध हो जायेगी। जुलाई तक आईटी पार्क में स्टेट-आफ-आर्ट ç


कानून विषय पर राज्य स्तरीय कॉन्फ्रेंस का आयोजन

ग्रेटर नोएडा। नॉलेज पार्क स्थित लॉयड लॉ कॉलेज में बीते दिन भारत में सुरक्षा और विनियम अधिनियम विषय पर राज्य स्तरीय कॉन्फ्रेंस का आयोजन


किसानों और मजदूरों की समस्याओं से रूबरू हुए कांग्रेस उपाध्यक्ष
 

सोनीपत। हरियाणा के सोनीपत की गन्नौर स्थित अन्तर्राष्ट्रीय हार्टिकल्चर मण्डी में लगी चौपाल में धीरेन्द्र सिंह के नेतृत्व में जनपद गौ


ग्रेटर नोएडा। उत्तर प्रदेश बोर्ड परीक्षा में नकल रोकने को लेकर जिला प्रशासन ने पूरी ताकत झोंक दी है

ग्रेटर नोएडा। उत्तर प्रदेश बोर्ड परीक्षा में नकल रोकने को लेकर जिला प्रशासन ने पूरी ताकत झोंक दी है। बीते दिन जिलाधिकारी एवी राजामौली न

Disclaimer :- For any compalints regarding news, content, pic, video contact on +91 9717121916. No one is responsible for anything.